(Fasal Registration) Meri Fasal Mera Byora 2021

मेरी फसल मेरा ब्यौरा योजना हरियाणा | Meri Fasal Mera Byora Portal Haryana | मेरी फसल मेरा ब्यौरा लॉगिन | Meri Fasal Mera Byora Last Date | फसल का रजिस्ट्रेशन कैसे करे | Meri Fasal Mera Byora Registration

  • योजना : मेरी फसल – मेरा ब्यौरा योजना 
  •  शुरू की गयी : मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी ने 
  • विभाग : कृषि और किसान कल्याण विभाग
  • उद्देश्य : एमएसपी पर फसल खरीदने के लिए किसान और फसल का पंजीकरण
  • लाभार्थी : हरियाणा और पड़ोसी राज्यों के किसान
  • आवेदन की प्रक्रिया : ऑनलाइन माध्यम से 
  • रजिस्ट्रेशन लिंक लेख के अंत में दिए गए है जहाँ से आप रजिस्ट्रेशन कर सकते है। 

meri fasal mera byora 2021

Latest Update : खरीफ सीजन शुरू हो गया है। इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर खरीफ फसलों का पंजीकरण शुरू किया गया है। जो किसान खरीफ फसल की खेती कर रहे हैं, वे मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर अपनी फसल का विवरण दर्ज कर सकते हैं। इस बार पोर्टल पर 20 से अधिक फसलों का पंजीयन हो रहा है। यह जानकारी हिसार की उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी ने दी। इस पोर्टल के माध्यम से यह सुनिश्चित किया गया है कि फसल बीमा कवर, प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसल मुआवजा और अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ किसानों तक पहुंचे। 

किसानों को मेरी फसल मेरा ब्यौरा के अंतर्गत आवेदन करने के लिए अब किसी भी सरकारी कार्यालय के फिजूल में चक्कर काटने की आवश्यकता नहीं है। किसान अपने नजदीकी सीएससी केंद्र के माध्यम से मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। इसके अलावा किसानों द्वारा ऑफिसियल वेब पोर्टल के माध्यम से खुद भी रजिस्ट्रेशन कर सकते है।

पंजीकरण करते समय किसानों द्वारा यह पाया गया है कि बाजरे की फसल का पंजीकरण पोर्टल पर स्वीकार नहीं किया जा रहा है। इस संबंध में कृषि विभाग के उच्च अधिकारियों को सूचना प्रदान की गई है। इसके बाद अधिकारियों द्वारा यह जानकारी प्रदान की गई कि बाजरे की फसल पोर्टल पर किसी तकनीकी कारण की वजह से दर्ज नहीं की गई। जल्द मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर बाजरे की फसल का भी पंजीकरण होना आरंभ हो जाएगा।

Table of Contents

अब ‘मेरा पानी मेरी विरासत योजना’ को ‘मेरी फसल मेरा ब्योरा योजना’ के साथ जोड़ा गया

प्रदेश के गिरते जल स्तर को सँभालने व किसानो को वैकल्पिक फसलों के प्रति प्रोत्साहित करने लिए लिए मेरा पानी मेरी विरासत योजना को सरकार द्वारा पिछले वर्ष आरंभ किया गया था। मेरा पानी मेरी विरासत योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य पानी की बचत करना और प्रदेश के जल स्तर को तक करना है। मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत किसानों को एक आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है जो किसान धान की जगह वैकल्पिक फसल की खेती करते हैं। यह आर्थिक सहायता किसानो के बैंक अकाउंट में  ₹7000 प्रति एकड़ की दर से प्रदान की जाती है। पिछले वर्ष किसानों द्वारा 96000 एकड़ जमीन पर उन फसलों की खेती की गई थी जो कम पानी के इस्तेमाल करती है। इस वैकल्पिक फसलों का निर्धारण हरियाणा सरकार द्वारा किया गया है। मेरा फसल मेरा ब्यौरा योजना की सफलता को देखते हुए हरियाणा सरकार ने अब मेरा पानी मेरी विरासत योजना को मेरी फसल मेरा ब्योरा योजना के साथ जोड़ने का निर्णय लिया गया है। जिससे कि किसानों को और अधिक सुगमता से इसका लाभ पहुंचाया जा सके।

रिव्यू मीटिंग के माध्यम से प्रदान की गई महत्वपूर्ण जानकारी

मेरा फसल मेरा ब्यौरा योजना को मेरा पानी मेरी विरासत योजना से जोड़ने की जानकारी एक रिव्यू मीटिंग के दौरान हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के द्वारा प्रदान की गई है। इस रिव्यू मीटिंग के दौरान कृषि विभाग के अधिकारियों को  राज्य के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी के द्वारा यह निर्देश दिए गए हैं कि  राज्य के सभी किसानों तक प्रदेश में चलायी जा रही इस योजना से संबंधित जानकारी पहुंचाई जाएँ । जिस से कि प्रदेश में पानी की बचत की जा सके। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा यह भी जानकारी दी गई थी किसानों को सब्जियां, दाले, सोयाबीन, ग्वार आदि वैकल्पिक फसलों की खेती करने के लिए भी आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए सभी किसानों को अपने नजदीकी सीएससी सेंटर या मोबाइल से अपनी फसल से संबंधित विस्तृत जानकारी मेरी फसल मेरा ब्योरा एवं मेरा पानी मेरी विरासत पोर्टल पर देनी होगी ।

लाभार्थियों का सत्यापन समय पर किया जाएगा

किसान द्वारा फसल की जानकारी मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अपलोड करने के बाद संबंधित अधिकारी द्वारा किसान द्वारा प्रदान की गई जानकारी का सत्यापन किया जाएगा और उसके बाद लाभ की राशि लाभार्थी के सीधे ही बैंक खाते में पहुंचा दी जाएगी। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि इस योजना के कार्यान्वयन के लिए लाभार्थी के सत्यापन का कार्य बिना विलम्ब के समय से कर लिया जाए। इसके अलावा मुख्यमंत्री द्वारा यह भी निर्देश दिए कि पूरे राज्य को चार जोन में बांटा जाएगा।राज्य के प्रत्येक जोन में एक सीनियर ऑफिसर की नियुक्ति की जाए । यह सीनियर ऑफिसर अपने अंतर्गत आने वाले जोन के किसानों को सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली योजनाओं की जानकारी प्रदान करेंगे। जिससे कि राज्य के प्रत्येक किसान को हरियाणा सरकार द्वारा चलायी गई योजना का लाभ प्राप्त कर सकेंगे। मेरा पानी मेरी विरासत योजना का लाभ उन किसानों को भी प्रदान किया जाएगा जिन्होंने धान सीजन के दौरान कोई खेती नहीं की। और अपना खेत खाली छोड़ दिया था।

25 जून तक ये सभी किसान मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत पंजीकरण करें ?

वे सभी किसान जो मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें अब मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर पंजीकरण करना होगा। यह फसल पंजीकरण केवल 25 जून 2021 तक किया जा सकता है। फसल विविधीकरण योजना के तहत सभी पंजीकृत किसानों को 7000/- रुपये की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी। मक्का, कपास, तिल, मूंगफली, सब्जियां आदि वैकल्पिक फसलों के साथ धान की फसल में विविधता लाने के लिए धान क्षेत्र के जिलों को मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत कवर किया गया है। वे सभी किसान जिन्होंने पिछले साल मेरा पानी मेरी विरासत योजना का लाभ उठाया था, वे सभी किसान इस वर्ष भी इस योजना का लाभ उठा सकते है।

इसके अतिरिक्त वे  सभी किसान जो धान की जगह अपने पशुओ के लिए चारा उगाते हैं या इस वर्ष अपना खेत खाली रखना चाहते हैं उन्हें भी इस योजना के अंतर्गत लाभ प्रदान किया जाएगा। राज्य सरकार द्वारा फसल विविधीकरण अपनाने वाले किसानों को ₹7000 प्रति एकड़ की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। यह वित्तीय सहायता सीधे किसानो के बैंक खाते में भेजी जाएगी। और इसके अलावा वैकल्पिक फसलों का फसल बीमा भी प्रदान किया जाएगा। जिसके प्रीमियम का भुगतान किसानो को प्रदान की जा रही प्रोत्साहन राशि से किया जाएगा। हरियाणा सरकार द्वारा सभी वैकल्पिक फसलों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर किए जाने का भी प्रावधान इस योजना के अंतर्गत शामिल किया गया है।

प्रमाणित की गई फसल का विवरण कैसे देखे ?

01 अप्रैल 2021 से हरियाणा सरकार द्वारा गेहूँ की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीददारी शुरू कर दी गई है। जिन किसानों ने अपनी फसल का पंजीकरण किया है वे अपनी फसल मंडी में लेकर जाने से पूर्व उसका का विवरण ऑनलाइन माध्यम से देख सकते है। आपको विवरण देखने में कोई परेशानी न हो इसके लिए हमने पूर्ण जानकरी इस लेख में प्रदान कर दी है। जो कि इस प्रकार है –

  • सबसे पहले अपने डेस्कटॉप या मोबाइल पर ekharid.haryana.gov.in सर्च करें।
  • इसके बाद आप के सामने ई खरीद पोर्टल का होमपेज खुलेगा।
  • यहाँ आने के बाद आपको Farmer Record Search का ऑप्शन दिखाई देगा। इस दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • फार्मर रिकॉर्ड सर्च पर क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नयी विंडो ओपन होगी। यहाँ आने के बाद आपको Farmer Registration ID, Farmer Mobile Number, GatePass ID तथा J Form Details ये चार ऑप्शन दिखाई देंगे।
  • दिए गए ऑप्शन में से अपनी सुविधा के अनुसार किसी एक का चयन करें।Farmer Status Record
  • फार्मर मोबाइल नंबर विधि से : –
  • Farmer Mobile Number विकल्प का चयन करें। 
  • अब खाली बॉक्स में दिया गया कॅप्टचा कोड भरें। और इसके बाद Proceed पर क्लिक करें। 
  • Proceed पर क्लिक करने के बाद नया पेज ओपन होगा। यहाँ किसान का रेजिस्ट्रेड मोबाइल नंबर दर्ज करें।
  • इस प्रकार किसान का विवरण आपके सामने होगा।

किसान अपनी फसल का मंडी शेड्यूल कैसे बदले ?

इस बार मौसम में नमी होने के कारण किसानों की फसल की कटाई  कढ़ाई में पिछले वर्ष की तुलना में 10 दिन देरी हो गई है। जिस कारण से किसान मंडी में अपनी फसल देरी से लेकर आ रहे है। मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर किसानो की फसल का शेड्यूल तैयार किया जा चूका है यदि आप किसी कारणवश अपनी फसल मंडी में निर्धारित की गयी तारीख को नहीं लेकर जा सकते हो तो आप अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर मंडी का शेड्यूल बदल सकते हो। मंडी का शेड्यूल बदलने की प्रक्रिया इस प्रकार है।

  • सबसे पहले अपने मोबाइल या डेस्कटॉप
  • पर ekharid.haryana.gov.in सर्च करें।
  • इसके बाद आप के सामने ई खरीद पोर्टल का होमपेज खुलेगा।
  • यहाँ आने के बाद आपको Important Links के सेक्शन में Set Schedule का ऑप्शन दिखाई देगा।
  • Set Schedule पर क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नयी विंडो ओपन होगी।
  • इसमें आपके सामने तीन ऑप्शन होंगे – (i) Farmer Schedule Number, (ii) Farmer Mobile Number, (iii) Farmer PPPIDSet Schedule
  • अपनी सुविधा के अनुसार उपरोक्त विकल्प में से किसी एक का चुनाव करें। 
  • Farmer Mobile Number के माध्यम से : 
  • Farmer Mobile Number के ऑप्शन पर क्लिक करें। 
  • अब खाली बॉक्स में कॅप्टचा कोड भरें और Proceed पर क्लिक करें। 
  • इसके बाद किसान अपना रेजिस्ट्रेड मोबाइल नंबर भरें और अब बॉक्स में मोबाइल पर OTP दर्ज करें। 
  • अब आपके सामने फसल का शेड्यूल दिया होगा
  • यहाँ Reschedule का ऑप्शन दिखाई देगा इस पर क्लिक करें।
  • अब अपनी फसल के मंडी में बेचने का दिन बदल सकते है। 

इसे पढ़े : मेरा पानी – मेरी विरासत योजना

मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल का मकसद हरियाणा के किसानो को लाभ प्रदान करना है। मेरी फसल मेरा ब्यौरा के ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से किसानो को पूर्ण जानकारी पोर्टल के माध्यम से प्रदान की जाएगी। खाद,बीज ,कृषि उपकरण ,फसल की बुअवाई से कटाई तक और अन्य सरकारी सुविधाएं अब एक मंच पर उपलब्ध कराई जाती है। किसान की फसल का ब्यौरा ऑनलाइन करने का कार्य गांवों में स्थित सामान्य सेवा केंद्रों पर और अटल सेवा केंद्र पर भी किया जा सकता है।

सरकार ने किसानो की फसल को ऍम.एस.पी की दरों पर खरीदने के लिए अपने Meri Fasal Mera Byora पोर्टल को शुरू कर दिया है यहाँ पर अब किसान भाई Meri Fasal Mera Byora के पोर्टल पर जाकर अपनी गेहूं, सरसों व निर्धारित की गई फसल का रजिस्ट्रशन करवा सकते है।

हम अपने किसान भाइयों को बता दे कि इस बार बहुत से किसानो को अपनी फसल का रजिस्ट्रशन करवाने में परेशानी हो रही है इसलिए आप हमारे द्वारा फसल रजिस्ट्रेशन की विधि को पढ़कर अपनी फसल का पंजीकरण कर सकते है। 

इस बार फसलों का रजिस्ट्रशन पुरानी वेबसाइट पर नहीं किया जा रहा है। इसके लिए हरियाणा सरकार इस बार किसानो से आवेदन नयी वेबसाइट पर मांगे है जिसका लिंक हम इस लेख में दे रहे है आप इस लिंक पर क्लिक करके Meri Fasal Mera Byora की ऑफिसियल वेबसाइट पर चले जायेंगे। रजिस्ट्रशन में आपको किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होगी। पहले की तरह ही इस सीजन की फसल का रजिस्ट्रशन कर सकते है।

किसान भाइयों से हमारा निवेदन है कि वे अंतिम तिथि का इंतज़ार न करें। तथा बिना किसी विलम्ब के जल्द अपनी फसल का पंजीकरण करवाए। अन्यथा आप Meri Fasal Mera Byora योजना के लाभ से वंचित रह जायेंगे।

हम अपने किसान मित्रो को बता दे कि आपको फसल के रजिस्ट्रशन में किसी प्रकार की कोई समस्या न हो इसलिए हमने निचे लेख में सम्पूर्ण जानकारी को बड़े किस्तार से बताया गया है कृपा Meri Fasal Mera Byora के पोर्टल परअपनी फसल का पंजीकरण करने से पूर्व लेख को पूरा पढ़ ले।

meri fasal mera byora yojana

पहली बार प्रदेश में एमएसपी पर की जाएगी जौ सहित 6 फसलों की खरीददारी

हरियाणा सरकार ने किसानो के लिए बड़ा कदम उठाते हुए, 26 फरवरी 2021 को पत्रकारों के समक्ष जानकारी देते हुए कहा कि इस बार प्रदेश में गेहूँ , सरसों , दलहन , चना , सूरजमुखी और जौ सहित कुल 6 फसलों की खरीददारी की जाएगी। जिसमे जौ की फसल पहली बार न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी जाएगी।

इस बीच सरकार का कहना है कि Meri Fasal Mera Byora पोर्टल पर पंजीकरण जारी है जिस किसान ने पंजीकरण नहीं करवाया है वो जल्द से पंजीकरण करवाएं। Meri Fasal Mera Byora  पोर्टल पर पंजीकृत किसान की फसल का एक एक दाना सरकार के द्वारा ख़रीदा जायेगा। इसलिए किसान Meri Fasal Mera Byora Portal पर पंजीकरण जरूर करवाएं। 

सिर्फ 48 घंटे के अंदर धनराशि सीधे किसानों के बैंक खाते में

हरियाणा सरकार ने पहली बार प्रदेश के किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर जौ की फसल को खरीदने के इतिहासिक कदम के साथ ही फैसला किया है कि किसान द्वारा मंडी में अपनी फसल बेचने के बाद जैसे ही आढ़ती जे – फार्म काटता है उसके 48 घंटे के अंदर ही किसानों को उनकी फसल का भुगतान सीधे उनके बैंक खाते में कर दिया जायेगा।

जिससे किसानों को अपने आगामी फसल की तैयारियों के लिए किसी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े। और किसान समय पर फसल की तैयारियाँ व जरुरी संसाधनों का प्रबंध कर लें। सरकार का कहना है कि प्रदेश की सभी मंडियों को और बेहतर किया जायेगा। किसानों की फसल का दाना दाना ख़रीदा जायेगा। किसानों को परेशान नहीं होने देंगे। 

मेरी फसल मेरा पोर्टल पर फसल रजिस्ट्रेशन 2021 के खास पहलु :-

Fasal Regitration 2021 के तहत हरियाणा सरकार प्रदेश के पड़ोसी राज्यों के किसानों की फसल की खरीद करेगी। जिसके लिए सरकार ने Meri Fasal Mera Byora Portal पर किसानों को पंजीकरण करने के लिए आमंत्रित किया है। अब पड़ोसी राज्यों के किसान Fasal Registration के पश्चात् हरियाणा में अपनी धान की फसल बेच सकेंगे। जो किसान Meri Fasal Mera Byora योजना का लाभ लेना चाहते है बिना किसी विलम्ब के अपनी फसल को रजिस्ट्रेशन करें। 

हाल ही में हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जेपी दलाल की नेतृत्व में एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमे कृषि कृषि मंत्री ने Meri Fasal Mera Byora पर रबी फसल के पंजीकरण को लेकर आवश्यक जानकारियां दी। तथा हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर ने बैठक में  सम्बंधित विभाग व अधिकारियों को जरुरी दिशा निर्देश दिए।

  • इस बैठक में जानकारी दी गई कि सरकार किसानों से 1975 रुपये प्रति क्विंटल की एमएसपी पर 80 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद करेगी। तथा 4650 रूपये प्रति क्विंटल की दर से 08 लाख  मीट्रिक टन सरसों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर करेगी।
  • सरकार किसानों से 51000 रुपये प्रति क्विंटल की एमएसपी पर 11 हज़ार मीट्रिक टन चना की खरीद व 5885 रूपये प्रति क्विंटल की दर से 17 हज़ार मीट्रिक टन सूरजमुखी की खरीद एमएसपी  पर करेगी।
  • बैठक में फैसला किया गया कि किसानो को फसल बेचने पर मंडियों में किसी परेशानी को न झेलना पड़े इसके लिए गेहूं की खरीद के लिए प्रदेश में 389 मंडिया स्थापित की जाएगी और सरसों की फसल की खरीद के लिए 71, चना की फसल के लिए 11 तथा सूरजमुखी की खरीद के लिए प्रदेश में 08 मंडियों के स्थापना की जाएगी। 

इसे पढ़े : पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना 

जैसा कि हम सब जानते है कि गांव में लोग खेती करने के साथ साथ ही पशुपालन भी करते है और कई बार ऐसा भी होता है कि पशु पालको को अपनी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए अपने पशु बेचने पड़जाते है और कभी पशु बीमार हो जाते है तब किसानो के पास पैसा न होने की वजह से वह उनका इलाज नहीं करवा पाते है इन कारणों से पशुपालको की आजीविका चलाने के साधन समाप्त हो जाते है

किसानो की इन सभी परेशानियों को देखते हुए राज्य  सरकार ने पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना को शुरू किया है इस योजना के द्वारा किसान लोन लेकर अपने पशुओ कि देखभाल अच्छे से कर सकेंगेता, उनकी देखभाल के लिए जरुरी संसाधनों की आवश्यकताओं को पूरा कर सकते है और अपनी आजीविका को अच्छे से चला सकेंगे |

पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना के माध्यम से राज्य में पशुपालन व्यवसाय में वृद्धि भी होगी और कृषि व  पशु पालन व्यवसाय को विकसित देशों की तरह ही आधुनिक बनाने का प्रयास किया जाएगा। पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहाँ विजिट करें। 

इसे पढ़े :- भावान्तर भरपाई योजना (BBY) 

हरियाणा सरकार किसानों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने लिए तेजी से प्रयास कर रही है। सरकार ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है। इसकी को पूरा करने तथा किसानों के हालातों में सुधार करने के उद्देश्य से “Meri Fasal Mera Byora” व “भावान्तर भरपाई योजना” को शुरू किया है जहाँ किसान ऑनलाइन माध्यम से पंजीकरण करके अपनी उपज के अच्छे दाम लेकर मुनाफा कमा सकते है

सब्जिओं को बेचने के पश्चात किसानों को किसी प्रकार का घाटा न हो, उन्हें अपनी फसल का अच्छा मूल्य मिल सके ताकि हरियाणा के किसानों की आमदनी बढे तथा उनके जीवन स्तर में सुधार लाया जा सके। इसके साथ ही  प्रदेश के किसानों को सब्जिओं की फसल के प्रति प्रेरित करने के उद्देश्य से भावान्तर भरपाई योजना का शुभारम्भ किया गया है।

इस लेख में हम आपको भावान्तर भरपाई योजना की शुरुआत कब और किसके द्वारा कहाँ से की गई से लेकर, फसल पंजीकरण और उनके निर्धारित किये गए मूल्य और अभी हाल ही में भावान्तर भरपाई योजना में जोड़ी गई फसलें व पंजीकरण के लिए जरुरी दस्तावेजों की जानकारी दी जाएगी। अधिक जानकारी के लिए यहाँ  क्लिक करें


meri fasal mera byora

हरियाणा सरकार ने प्रदेश के किसानो के लिए Meri Fasal Mera Byora Portal  की शुरूआत की है जो हरियाणा के सभी किसान भाईयो के लिए बहुत  ही लाभकारी है। किसान की फसल की खरीद और उसके भुगतान की जानकारी किसानों को उनके मोबाइल पर विभाग द्वारा SMS के माध्यम से प्रदान की जाएगी इसलिए किसान वही नंबर रजिस्टर करे जो आपके पास हो। इसी नंबर के माध्यम से आप खाता संख्या भी बदल सकेंगे।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सरकार ने ऑनलाइन व सूचना प्रौद्योगिकी के ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने हेतु उनके डिजिटलाइजेशन विजन को आगे बढ़ाते हुए कृषि एवं किसान कल्याण विभाग ने फसलों का ब्यौरा ऑनलाइन करने के लिए “Meri Fasal Mera Byora” पोर्टल की शुरुआत की है।

Meri Fasal Mera Byora पर फसल का ब्यौरा ऑनलाइन करने का कार्य गावों के Common Service Center के वीएलई ( विलेज लेवल इंटरप्रन्योर ) करेंगे। जिसके लिए5 रुपये प्रति खेवट की दर से भुगतान होगा।

मेरी फसल-मेरा ब्यौरा योजना का उद्देश्य क्या है ?

  • Meri Fasal Mera Byora की वेबसाइट पर किसान का पंजीकरण, फसल का पंजीकरण तथा खेत का ब्यौरा ऑनलाइन दर्ज होगा।
  • हरियाणा सरकार ने किसान भाईयों को एक ही जगह सभी सरकारी योजनाओं को उपलब्ध कराने  तथा समस्याओं के निवारण के लिए एक अनूठा प्रयास किया गया है।
  • बोई जाने वाली फसलों की जानकारी तथा विभिन्न योजनाओ के लाभ किसानो को देने के लिए प्रदेश सरकार ने राज्य स्तरीय ई-सूचना नामक पोर्टल को लॉन्च किया है।
  • फसल की बिजाई-कटाई से लेकर मंडी संबंधित जानकारी Meri Fasal Mera Byora पोर्टल पर उपलब्ध कराना।
  • खाद, बीज,ऋण एवं कृषि उपकरणों की सब्सिडी समय पर देने सम्बंधित जानकारी।
  • प्राकृतिक आपदा के समय किसानो को सहायता देने जैसी सुविधाएं दी जाएगी।

मेरी फसल-मेरा ब्यौरा योजना के लाभ क्या है ?

  • गांवों के वीएलई/CSC /अटल सेवा केंद्र सभी किसानो की फसल का ब्यौरा ऑनलाइन दर्ज करेंगे ।
  •  विलेज लेवल इंटरप्रन्योर को इस कार्य के लिए प्रदेश सरकार द्वारा सीधे उनके खाते में भुगतान किया जायेगा।
  • वीएलई/CSC /अटल सेवा केंद्र के अलावा किसान अपने स्तर पर स्वयं इंटरनेट के माध्यम से Meri Fasal Mera Byora पोर्टल पर अपनी फसल का ब्यौरा दर्ज कर सकते है।
  • Meri Fasal Mera Byora पोर्टल पर किसानो के द्वारा दी गयी जानकारी को कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के साथ साँझा किया जायेगा।
  • किसान रबी व खरीफ़ फसलों का ब्यौरा ऑनलाइन दे सकते है।
  • इसके अतिरिक्त जमाबंदी से सम्बंधित जानकारी को पटवारी के साथ साँझा किया जायेगा।
  • इन सब के माध्यम से किसानो की फसलों की खरीद प्रक्रिया और भी आसान किया जायेगा।

Meri Fasal Mera Byora पर पंजीकरण के लिए आवश्यक दस्तावेज ?

  • आधार कार्ड।
  • निवास स्थान का प्रमाण पत्र। 
  • परिवार पहचान पत्र। 
  • बैंक पासबुक को साथ में रखे।
  • अपनी जमीन की नक़ल कॉपी।
  • फरद से मुरब्बा खसरा नंबर।
  • वैध मोबाइल नंबर। (पंजीकरण से लेकर फसल बेचने तक की सभी सूचनाएं इसी नंबर पर उपलब्ध कराई जाएगी)

Meri Fasal Mera Byora पोर्टल पर पंजीकरण कैसे करें ?

सभी किसान Meri Fasal Mera Byora पोर्टल अपनी फसल का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने के लिए निम्नलिखित चरणों को पूरा करें –

Capture

पहली बार फसल का रजिस्ट्रेशन करने वाले किसान :

  • Meri Fasal Mera Byora Portal पर पंजीकरण के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ। 
  • यहाँ आकर “किसान अनुभाग” पर क्लिक करें। 
  • फसल पंजीकरण के लिए  “किसान पंजीकरण” लिंक पर क्लिक करे।
  • अगले पृष्ठ पर आपको अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना है।
  • अब आपकी परिवार पहचान पर आईडी के बारे में पूछा जायेगा। (हाँ /नहीं )
  • हाँ पर क्लिक करने पर , आपकी डिटेल्स को “परिवार पहचान पत्र” से आटोमेटिक भर दिया जायेगा। 
  • नहीं पर क्लिक करने पर , अपना आधार नंबर दर्ज करें और आगे की प्रक्रिया को पूरा करें। 
  • फिर अपनी फसल का ब्यौरा , बैंक की डिटेल तथा आढ़ती /मंडी का जानकारी भरे
  • पंजीकरण के समय आपसे मांगी गयी जानकारी ध्यानपूर्वक ठीक से भरे अन्यथा आगे चलकर भविष्य में आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।
  • उपरोक्त चरणों को पूरा करने के बाद पंजीकरण की प्रक्रिया पूर्ण हो जाएगी।
  • आपकी फसल से सम्बंधित जानकारी व वन टाइम पासवर्ड आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर  भेजा जायेगा ।
  • फॉर्म को सफलतापूर्वक भरने के बाद फॉर्म सबमिट कर दे।
  • किसान भाई ध्यान दे कि Meri Fasal Mera Byora पर प्राप्त पंजीकरण संख्या को भविष्य में उपयोग के लिए संभाल के रख ले।

पंजीकृत किसानों की फसल के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया :

  • Meri Fasal Mera Byora Portal पर पंजीकरण के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ। 
  • यहाँ आकर “किसान अनुभाग” पर क्लिक करें। 
  • फसल पंजीकरण के लिए  “किसान पंजीकरण” लिंक पर क्लिक करे।
  • अगले पृष्ठ पर आपको अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना है।
  • अब आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर वन टाइम पासवर्ड (OTP) भेजा जायेगा ।
  • दिए गए खाली बॉक्स में OTP भरें। और “OTP सत्यापित करें” पर क्लिक करें।
  • अपना विवरण जांचे , ट्यूबल  का विवरण तथा  बैंक डिटेल भरे। अब “जारी रखे” पर क्लिक करें।
  • अपनी फसल के विवरण को दर्ज करें या पुराने विवरण में संशोधन करें या फिर आप पहले से दर्ज विवरण के साथ ही जारी रख सकते है। 
  • पंजीकरण के समय आपसे मांगी गयी जानकारी ध्यानपूर्वक ठीक से भरे अन्यथा आगे चलकर भविष्य में आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।
  • उपरोक्त चरणों को पूरा करने के बाद पंजीकरण की प्रक्रिया पूर्ण हो जाएगी।
  • फॉर्म को सफलतापूर्वक भरने के बाद फॉर्म सबमिट कर दे।
  • किसान भाई ध्यान दे कि Meri Fasal Mera Byora पर प्राप्त पंजीकरण संख्या व अन्य जानकारी को भविष्य में उपयोग के लिए संभाल के रख ले।

Meri Fasal Mera Byora पर बैंक अकाउंट का विवरण कैसे बदलें ?

जिन किसानों की खरीफ फसल के रजिस्ट्रेशन के समय बैंक का विवरण देने में त्रुटियां हो गई थी और उन्हें मंडी में अपनी फसल बेचने के बाद उसकी धनराशि प्राप्त करने में विलम्ब हुआ व अन्य परेशानियों का सामना करना पड़ा है। इसी समस्या को दूर करने के लिए Meri Fasal Mera Byora पोर्टल पर किसानो के बैंक खाते का विवरण बदलने के लिए पोर्टल को ओपन किया गया है।

प्रदेश के वे सभी किसान जिनका बैंक विवरण गलत पाया गया है वे सभी किसान विवरण में पाई गई गलतियों को सुधारने के लिए जल्दी से अपनी सही जानकारी प्रदान करे। आपको कोई परेशानी न हो इसलिए हमने यहाँ बैंक की गलत डिटेल्स को ठीक करने की पूरी जानकारी उपलब्ध करा दी है बैंक विवरण को बदलने की प्रक्रिया इस प्रकार है –

सभी किसान रजिस्ट्रेशन से सम्बंधित किसी अन्य जानकारी या समस्या के निवारण हेतु निचे दिए गए “Meri Fasal Mera Byora” के हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करें

  •  सबसे पहले आपको Meri Fasal Mera Byora की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ या हमारे द्वारा दिए गए लिंक “Change Bank Acc. Details” पर क्लिक करें। 
  • जिसके बाद आपको फसल के समय दर्ज किया गया मोबाइल नंबर पूछा जायेगा , उसे यहाँ भरें।
  • कॅप्टचा कोड दर्ज करने के बाद “जारी रखें” पर क्लिक करे। 
  • अब आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर OTP प्राप्त होगा। 
  • OTP दर्ज करने के पश्चात् आप अपनी बैंक अकाउंट की  डिटेल्स में सुधार कर सकते है।
  • नोट : OTP सिर्फ उन्ही किसानों के मोबाइल नंबर पर प्राप्त होगा, जिनके द्वारा प्रदान की गई बैंक अकाउंट की डिटेल्स में खामियां है।
Meri Fasal Mera Byora Portal Helpline Number – 1800-180-2117, 1800-180-2060 (9 am to 5 pm)
Meri Fasal Mera Byora Portal E-Mail I’d – hsamb[dot]helpdesk@gmail[dot]com

इसी प्रकार की अन्य सरकारी योजनाओ की जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट WWW.LATESTSCHEME.COM से जुड़े रहिये।

Check Farmer Status Record (Gate Pass)

Click Here

IMPORTANT LINKS (हरियाणा के लिए)

Registration Link

Click Here

Print Registration Form

Click Here

Change Bank Acc. Details

Click Here

newIMPORTANT LINKS (पड़ोसी राज्यों के लिए)new

Registration Link

Click Here

Print Registration Form

Click Here

Change Bank Acc. Details

Click Here

Official Website

Click Here

Frequently Asked Question

  • Fasal Haryan Portal क्या है ?
  • यहाँ हरियाणा सरकार द्वारा किसानों के हित में चलाया गया एक Meri Fasal Mera Byora पोर्टल हैं जिस पर किसानों को पंजीकरण से लेकर मंडी में अपनी फसल बेचने तक सभी सरकारी सुविधाएं प्रदान की जाती है। 
  • मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कैसे करें ?
  • पंजीकरण के लिए विभाग की आधिकारिक वेबसाइट fasal.haryana.gov.in पर विजिट करें। पंजीकरण से पूर्व हमारे इस लेख को जरूर पढ़ ले। 
  • फसल पंजीकरण के लिए अंतिम  तारीख़ क्या है ?
  • पंजीकरण के लिए अंतिम तारीख़ 07 अप्रैल 2021 है।
  • मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर बैंक का विवरण  कैसे बदले ?
  •  किसान अपने बैंक अकाउंट का विवरण स्वयं ही बदल सकते है। इसके लिए किसान Meri Fasal Mera Byora पोर्टल (fasal.haryana.gov.in) पर जाएँ और हमारे द्वारा लेख में बताई गई विधि का अनुसरण कर अपने बैंक खाते का विवरण बदले। 
  • पंजीकृत किसान आवेदन फॉर्म प्रिंट कैसे करें ?
  • फसल का पंजीकरण करने के बाद Meri Fasal Mera Byora पोर्टल Print Form पर क्लिक करें। आपसे मांगी गई जानकारी भरे और आवेदन फॉर्म का प्रिंट निकाल लें। 
  • किसान गेट पास लिस्ट कैसे देखें ?
  • गेट पास लिस्ट देख की विधि लेख में बता दी गयी है। 

Rohit Singh

Web Developer SEO Expert Wordpress

You may also like...